Email: info@kabebe.org | Mobile: +256) 776 262 023 / (+256) 757 752 226

Rent Agreement for Shop in Hindi

Rent Agreement for Shop in Hindi: Everything You Need to Know

शॉप के लिए किराये का समझौता करना आवश्यक होता है। यह एक संविदा होता है जो मालिक और किरायेदार के बीच किया जाता है। इससे आपकी संबंधों की स्पष्टता बनी रहती है तथा आपको आराम से अपनी दुकान को संचालित करने की अनुमति मिलती है।

इसलिए, इस समझौते को बनाने के दौरान कुछ महत्वपूर्ण बिंदु ध्यान में रखने चाहिए।

1. भुगतान की अवधि: संविदा के अंतिमकाल के साथ-साथ, आपको यह भी निर्धारित करना चाहिए कि किराया कब और कैसे भुगतान करना होगा। वहाँ से यह भी स्पष्ट हो जाएगा कि किराएदार किस तरह के चेक या दस्तावेज़ के माध्यम से भुगतान कर सकता है।

2. सुविधाएं और संरचना: संविदा के अंतिमकाल से पहले, आपको यह सुनिश्चित करना चाहिए कि दुकान की संरचना के अलावा अन्य सुविधाएं जैसे बाथरूम, बिजली, पानी आदि किसकी जिम्मेदारी होगी।

3. उपयोग की अनुमति: संविदा में स्पष्टता से उपयोग की अनुमति के बारे में लिखा होना चाहिए। यह भी स्पष्ट होना चाहिए कि दुकान का उपयोग किस तरह किया जा सकता है और क्या वह आपके दुश्मन के विरुद्ध उपयोग कर सकता है।

4. नुकसान और दावे: संविदा में नुकसान और दावे के बारे में स्पष्टता से लिखा होना चाहिए। किसी दुर्घटना के बाद, किराएदार क्या करना चाहिए या जो नुकसान हो जाता है उसका जुर्माना कैसे भुगतता है, ये सब स्पष्ट होना चाहिए।

5. संविदा की उपस्थिति: ध्यान रखें कि संविदा की उपस्थिति अत्यधिक महत्वपूर्ण है। संविदा का एक प्रति किराएदार के पास होना चाहिए और एक प्रति मालिक के पास होनी चाहिए। यदि कोई दो-तीन माह तक प्रति नहीं भेजता है, तो यह संविदा समझौता रद्द किया जा सकता है।

इन सभी महत्वपूर्ण बिंदुओं को ध्यान में रखकर, आप अपनी दुकान के लिए संविदा समझौता कर सकते हैं जो आपको सुरक्षित रखेगा और दुकान संचालित करने में मदद करेगा।

आपको धन्यवाद।